Sunday, 2 July 2017

What Is Success....?? | Article In Hindi


अक्सर ये सवाल हम सबके दिमाग में पता नही कितने ही बार आता हैं कि आज के टाईम सक्सेस क्या हैं या हमारी लाईफ का गोल क्या हैं..? अगर आप भी ये जानना चाहते है कि आखिर हमारे जीवन की परपज़ क्या है तो आप इस आर्टीकल को एकबार जरूर पढ़े।

सबसे पहले तो हमें ये समझना चाहिए कि हर व्यक्ति के लिये सक्सेस की डेफ़िनिशन अलग अलग होती हैं। जैसे किसी के लिये पैसा, किसी के लिये अपनी हैल्थ, किसी के लिये जाॅब, किसी के लिये रिलेशनशिप आदि। लेकिन मेरे लिये सक्सेस की परिभाषा कुछ ओर ही है। मैं ये मानता हूँ कि जिस काम को करने मे मुझे सबसे ज्यादा खुशी मिलती हैं वो ही मेरे लिये सक्सेस है। लेकिन देखा जाये तो सबके लिये खुशी ही सबसे बड़ी सक्सेस हैं। जैसे कि किसी को एक अच्छी जाॅब चाहिए क्योंकि वह उस जाॅब से हमेशा खुश रहेगा, किसी को ढेर सारा पैसा चाहिए ताकि बाद मे वो हैप्पी लाईफ जी सके। तो मेरे कहने का मतलब यही हैं कि हमारी लाईफ का अल्टीमेट गोल सिर्फ ओर सिर्फ अपनी अंदर की खुशी है। तो क्यो न हम अपने अल्टीमेट गोल पर फोकस करे बजाय पैसो के, अच्छी जाॅब और हैल्थ के। क्योंकि दुनिया मे एेसे पता नही कितने ही लोग हैं जिनके पास ढेर सारा पैसा तो है लेकिन चेहरे पर बिलकुल भी खुशी नही हैं और जिनके पास अच्छी जाॅब या अच्छी हैल्थ हैं वो भी अपनी लाईफ से खुश नही हैं। तो एक बात तो साफ है कि हमारी खुशी का इन सब चीजों से कोई लेना-देना नहीं हैं लेकिन हाँ.......इन सबसे खुशी मिलती तो है लेकिन कुछ दिनो के लिये। इन सब चीजों से हमेशा के लिये खुशी नही मिल सकती। चलो एक बार मैंने मान लिया कि आप ढेर सारा पैसा कमा लोगे या एक अच्छी जाॅब लग जाओगे लेकिन इस बात की क्या गारंटी हैं कि आप ये सब मिलने के बाद भी खुश रहोगे और आप सब भी जानते हो कि पैसा कितना भी हो लेकिन वो हमारी खुशी, हमारे इमोशंस कभी नही खरीद सकता।

लेकिन अफसोस की बात ये है कि आजकल सबने अपनी खुशी को इन सब चीजो सो कनेक्ट कर रखा हैं..!!
आज के इंडियन यूथ के लिये सक्सेस की डेफ़िनिशन...
किसके पास अच्छा शरीर हैं, किसके पास  ब्रांडेड गाड़ी हैं, किसके पास सबसे महंगी बाईक हैं, कौन सबसे खुबसूरत दिखता है, कौन ब्रांडेड कपड़े पहनता हैं, किसके पास आईफोन हैं.............ऐसी पता नही कितनी ही बकवास चीजो पर आज कल के लोगो की खुशी डिपेंड करती हैं। इन सब चीजो से सिर्फ टेम्पररी प्लेजर मिलता हैं मेरा तो सिर्फ ये ही मानना है कि इन सब चीजों से जितना कम अटैचमेंट होगा उतना ही हमारे लिये अच्छा होगा। मैं सिर्फ ये ही कहना चाहता हूँ कि आप अपनी खुशी की चाबी अपने हाथ मे ही रखे और जब चाहे खुश रहें ना कि किसी चीज पर डिपेंड रहे.....!!!
तो आज से हमारी लाईफ का गोल सिर्फ ओर सिर्फ अपनी अंदर की खुशी होनी चाहिए।

अंदर की खुशी कैसे मिलेगी...!!
(How to get Permanent Happiness)

पहली बात तो ये याद रखे कि खुशी एक च्वाईस हैं, इसका मतलब हम जब चाहे खुश रह सकते हैं। जो भी आपको पसंद हैं, आप वो ही करें। जिस काम को  करने में आपको सबसे ज्यादा खुशी मिलती हो या अंदर से अच्छी फिलिंग आती हो, वो ही करे। जैसे कि किसी को डांस करना बहुत पसंद हैं, किसी को स्पोर्ट्स में रूचि है तो किसी को गाना गाने में। किसी को बारिश में भीगने में खुशी मिलती हैं तो किसी को बाईक राईडिंग में। कोई दुसरो की हेल्प करके अपनी खुशी पाता है तो कोई छोटे बच्चों के साथ बच्चा बनकर।

 अगर आप अपनी लाईफ को बारीकी से देख पाये तो आपके आस-पास खुश रहने के इतने ऑप्शन हैं कि आप सोच भी नहीं सकते। चलो मैं आपको एक बात बताता हूं......जब कभी भी आप उदास हो तो मोबाईल में आपका सबसे फेवरेट गाना प्ले करदे और इयरफोन लगाकर उसे फिलिंग के साथ सुने, वादा करता हुँ आप अपनी सारी प्रॉब्लम्स भुल जाओगे या जब भी अपने आप को अकेला महसूस करे तो आप उन किड्स के बारे मे सोचिये जो आपको सबसे प्यारे लगते हैं.......आपका अकेलापन भी दुर हो जायेगा।

आपकी खुशी से बढ़कर दुनिया मे कोई चीज नहीं है तो आप वो ही करे जिसे करने मे आपको खुशी मिले ना कि वो करे जो दुनिया आपसे करवाना चाहती है। अगर आपको अपने आस-पास सफाई करने मे खुशी मिलती है तो करिये, चाहे दुनिया कुछ भी कहे क्योंकि सामने वालो तो नही पता कि आप अंदर से कितने खुश हो।
अगर कोई बंदा ज्युस का ठेला लगाता है और वो लोगो को ज्युस पिलाकर ईमानदारी से पैसे कमाता हैं और सबसे बड़ी बात ये कि वो अपने इस पेशे से बहुत खुश हैं। साथ ही साथ वो अपने परिवार को भी पुरा टाईम देता है। तो मेरे खयाल से ये बंदा उन सब लोगो से लाखों-करोड़ो गुना सक्सेसफुल हैं जिनके पास ढेर सारा पैसा, बड़ा बिज़नेस होने के बाद भी अपने परिवार को समय नही दे पाते।

अब मैं आपको बताता हूँ कि आप इस समय कितने सक्सेसफुल हो।
हमारे देश में करीब 40 करोड़ लोग ऐसे हैं जिनको अभी तक पढ़ना भी नहीं आता और 50 करोड़ लोग ऐसे जिनको इंटरनेट का इस्तेमाल करना भी नहीं आता और पता नहीं कितने लोग ऐसे हैं जिनके अपने दोनो हाथ नहीं हैं। और आप अभी अपने हाथों मे अपने मोबाइल तो पकड़कर, इंटरनेट के माध्यम से ये आर्टीकल पढ़ पा रहे हो। खुश रहने के लिये तीन चीजे तो मैंने अभी ही बता दी। अब सोचिये आप इन सब लोगो से कितना सक्सेसफुल हो आपके पास तो सबकुछ हैं, आपको तो हमेशा खुश रहना चाहिए।

इसलिये आप के पास जो भी है, जितना भी है उसी में खुश रहें। अगर आप हमेशा खुश रहते हो तो आप इस दुनिया के सबसे अमीर इंसान हो, चाहे मानो या ना मानो। आप ऐसे ही हँसते रहे, मुस्कराते रहे और हमेशा याद रखे कि हमारी खुशी ही हमारी सबसे बड़ी सक्सेस है। आशा करता हूँ आपको ये आर्टीकल जरूर पसंद आया होगा। प्लीज लाईक और शेयर करे। और कमेंट बाॅक्स मे अपना फिडबेक जरूर दे।


No comments:

Post a comment

RAPE - Is it our character or a crime..?? | Article in Hindi

आजकल अखबारों में, न्यूज चैनल्स पर गुडगाँव के "रेयान इंटरनेशनल स्कूल" का नाम बहुत आ रहा है.....!! जी हाँ ये वो ही स्कूल हैं जहाँ ए...